ओवा तरीके से सीखिये रोबोटिक्स और प्रोग्रामिंग, रोजी है ना!!!

कंपनी ने स्मार्टफोन कैमरा आधारित एप जारी किया है जो रोजी नामक ओवा रोबोट के ईर्द-गिर्द काम करती है। यह आपको ओवा दुनिया में ले जाती है और 3डी पहेलियाँ बनाने व सुलझाने का काम देती है।

Read more

अलीबाबा ने इजरायली स्टार्टप का अधिग्रहण किया, आभासी वास्तविकता पर केंद्रित

अलीबाबा समूह ने इजरायली आभासी वास्तविकता स्टार्टप कंपनी इनफिनिटी ओगमैंटेंड रियलिटी का अधिग्रहण कर लिया है। 2013 में स्थापित, इनफिनिटी

Read more

एनभीडिया की कृबु सोफ्टवेर डूडल को जीवित कर देती है

कृत्रिम बुद्धिमता या संक्षेप में कृबु शुरु से ही कलाप्रेमियों के लिये अद्भुत उपहार रही है। इसकी हालिया कड़ी में

Read more

एपल 8के डिस्प्ले की एकल आवा और ओवा हैडसेट पर काम कर रही है: खबर

खबरों की मानें तो एपल आभासी वास्तविकता और ओगमैंटेड वास्तविकता के साथ खेल करके एक ऐसा हैडसैट तैयार करना चाहती

Read more

गूगल ने एक ओवा एप लांच किया जो हवाओं में सफेद रेखायें उकेरती है

गूगल ने एक नयी ओगमैंटेड वास्तविकता (ओवा) एप लांच किया है जो उपयोग में आसान होने के साथ आनंददायी भी

Read more

सौंदर्य कंपनी लोरियल ने कनाडाई ओवा एप निर्माता कंपनी मोडिफेस को खरीदा

सौंदर्य उत्पाद बनाने वाली फ्रांसीसी कंपनी लोरियल ने ओवा केंद्रित कंपनी मोडिफेस का अधिग्रहण कर लिया है। मोडिफेस कंपनी अबतक

Read more

तोशिबा विंडोज 10 मिनी कंपूटर चालित ओवा हैडसेट दिखा रही है

आज तोशिबा ने उद्योग जगत के लिये एक ओवा हैडसेट डायनाएज प्रदर्शित किया है। यह हैडसेट ओगमैंटेड वास्तविकता पर आधारित

Read more

बोस ध्वनि पर केंद्रित ओगमैंटेड वास्तविकता ग्लास का विकास कर रही है

अमेरिकी की एक कंपनी बोस ने आस्टिन में आयोजनरत कार्यक्रम में उद्घोषणा किया कि वह ओगमैंटेड वास्तविकता (ओवा) ग्लास पर

Read more

2020 तक 100 करोड़ स्मार्टफोन फैशियल पहचान से लैस होंगे: काउंटरपोइंट रिसर्च

एपल और सैमसंग अपनी फैशियल पहचान प्रौद्योगिकी अन्य मोबाइल विनिर्माताओं के साथ साझा करेंगे ताकि वे अपने उपकरणों में यह विशेषता जोड़ सके। इस संभावना के मद्देनजर एक आँकड़ा आयी है जो कहती है कि 2020 तक 100 करोड़ स्मार्टफोनों में चेहरे से मोबाइल खोलने की विशेषता शामिल हो जायेगी। काउंटरपोइंट रिसर्च की एक रिपोर्ट के अनुसार, इसके कारण मोबाइल खोलने (ताला खोलने) के लिये पासवर्ड या पिन की जरूरत नहीं रह जायेगी। इसके अलावा फिंगरप्रिंट सैंसर भी अनुपयोगी हो जायेगी। इस तरह मोबाइल फोन को खोलने के लिये यह विशेषता मानक बन जायेगी।

Read more