फेसबुक ने लाइव स्ट्रीमिंग पर लगायी कुछ बंदिशें

facebook wall may have separate news section

फेसबुक ने अपनी मंच पर लाइव स्ट्रीमिंग के दौरान गलत गतिविधियों से बचने के लिये कड़ी मानदंडों को लागू करने का फैसला किया है। यह कदम न्यूजीलैंड आतंकी हमले के बाद उठायी गयी है।

डेढ़ महीने पहले, फेसबुक ने कहा था कि वह लाइवस्ट्रीमिंग पर आशिंक प्रतिबंध लगा सकती है जिससे इसके दुरुपयोग की संभावना घटेगी। और अब इसकी पहली किश्त आ चुकी है।

फेसबुक ने मंगलवार को कहा कि वह फेसबुक लाइव के उपयोग से जुड़ी शर्तों में बदलाव करेगी। यह फेसबुक की एकतरफा नीति होगी जो उनलोगों को एक निश्चित अवधि के लिये लाइव स्ट्रीमिंग सेवा का उपयोग करने से प्रतिबंधित करेगी जो मंच की सामुदायिक मानकों का उल्लंघन करते पाये जायेंगे।

यह नीति उनलोगों पर भी लागू होगी जो मंच पर ऐसी सामग्री पोस्ट करेंगे जो किसी आतंकी सजाल की ओर इंगित करती है या अपनी प्रोफाइल में हानिकारक जानकारी डालेंगे, वे भी लाइव स्ट्रीमिंग नहीं कर पायेंगे।

“हमारी ध्येय लाइवस्ट्रीमिंग दुरुपयोग की जोखिम को कम करना है”, रोजेन ने अपनी ब्लोग में कहा।

ये नयी बंदिशें फेसबुक की खतरनाक व्यक्ति एवं संगठन नीति पर भी लागू होंगी।

दो महीने पूर्व, न्यूजीलैंडस्थ क्राइस्टचर्च में एक श्वेत राष्ट्रवादी आतंकी ने मस्जिद में घुसकर गोलीबारी किया था और फिर उक्त घटना को फेसबुक पर लाइवस्ट्रीम कर दिया। इसके लिये फेसबुक की बहुलोचना हुयी कि उसने लाइवस्ट्रीम को क्यों नहीं रोका।

इसके अलावा गोलीबारी के बाद लोगों ने इसकी कई संपादित संस्करणों को मंच पर एकदूसरे के साथ साझा किया जिन्हें फेसबुक ने हटाने में सुस्ती दिखायी।

रोजेन ने कहा कि फेसबुक इन बंदिशों को मंच की सभी हिस्सों में लागू करेगी और जल्द ही, जो उपयोक्ता फेसबुक की सामुदायिक मानकों का उल्लंघन करेंगे, वे विज्ञापन भी नहीं बना पायेंगे।

न्यूजीलैंड की आतंकी हमले के बाद, हम समीक्षारत हैं कि हमारी सेवाओं का उपयोग नुकसान पहुँचाने या नफरत फैलाने जैसी गतिविधियों में नहीं होगी।

इसके अलावा फेसबुक ने उद्घोषणा किया कि वह हेराफेरी मध्यमा में अनुसंधान को बढ़ावा देने के लिये मैरीलैंड विवि, कोरनैल विवि, और कैलिफोर्निया विवि के साथ भागीदारी करेगी जो $75 लाख मूल्य की होगी। इससे फेसबुक अपनी छवि एवं वीडियो विश्लेषण प्रौद्योगिकी को बेहतर बनायेगी।

छवि स्त्रोत: Pixabay

क्या आप जानते हैं कि आपके द्वारा पढ़ा गया यह पोस्ट हजारों को प्रेरित करने वाली है? यदि इसका जवाब हाँ है तो आप अपने वही विचार यहाँ भी दे सकते हैं।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Enjoy Reading with Takniq :-)