अब आप अपनी लाइव बातों का अनुवाद कर पायेंगे, गूगल ने कृबु अनुवादक पेश किया

google-translatotron-speech-to-speech-ai-translation

बहुभाषी विश्व में संचार अहम भूमिका निभाती है। ऐसे में गूगल ने एक प्रोटोटाइप कृबु अनुवाद को पेश किया है जो आपकी आवाज को तुरंत दूसरी भाषा में बदल सकती है।

गूगल ने इसे ट्रांसलेटोट्रोन कहा है जो न सिर्फ आपकी मुँह से निकली शब्दों का अनुवाद करती है, बल्कि आपकी बोली को भी दूसरी भाषा में पेश करती है।

गूगल ने अपनी अनुसंधान पत्र में लिखा है कि यह एक अनुक्रम-से-अनुक्रम आधारित तंत्रिका संजाल है जो किसी भाषा में बोली गयी शब्दों को बिना किसी पाठ निरुपण के दूसरी भाषा में अनूदित कर देती है। इसमें गूगल ने स्पैनिश-अंग्रेजी की 16 वाक अनुवाद को पेश किया है।

इन वाक अनुवादों में, प्रथम मूल स्पैनिश में है, दूसरी मौलिक अनुवाद (अंग्रेजी में) है और तीसरी वास्तविक वक्ता की आवाज की नकल करती है। इन्हें बेहतरीन तो नहीं कहा जा सकता है लेकिन प्रायोगिक तौर पर, ये लाजवाब अवश्य हैं।

इसमें जो चीज कमाल की है, वह यह है कि यह ट्रांसलेटोट्रोन बिना पाठ अनुवाद किये कम त्रुटियों के साथ एक भाषा से दूसरी भाषा में अनुवाद करती है। इससे अुनवाद प्रक्रिया की प्रदर्शन में ईजाफा होने की उम्मीद है।

इस तरह की कृबु प्रतिरुप को अंत-से-अंत प्रणाली कहते हैं जिसमें बीच में कोई सहयोगी क्रिया नहीं होती है।

“अंत-से-अंत अनुवाद तेज परिणाम देती है जो विभिन्न अनुवाद चरणों के तहत पैदा होने वाली त्रुटियों को कम कर जाती है”, गूगल ने अपनी ब्लोग में कहा।

यह अनुवाद करने के लिये स्पैक्ट्रोग्राम आँकड़ों का भी उपयोग करती है।

हालाँकि यह अभी परीक्षण के दौर में है और यह आधिकारिक तौर पर बाजार में कब आयेगी, इसके बारे में कोई जानकारी नहीं मिली है।

अभी सिर्फ यही कहा जा सकता है कि कृबु अनुवाद की लहर आनी बाकी है, तो तबतक इंतजार करते हैं!

छवि स्त्रोत: Pexels

क्या आप जानते हैं कि आपके द्वारा पढ़ा गया यह पोस्ट हजारों को प्रेरित करने वाली है? यदि इसका जवाब हाँ है तो आप अपने वही विचार यहाँ भी दे सकते हैं।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Enjoy Reading with Takniq :-)