फेसबुक उपयोक्ताओं का आँकड़ा फिर सार्वजनिक, अपगार्ड का खुलासा

facebook app and laptop

एक बार फिर फेसबुक उपयोक्ताओं के आँकड़ों के साथ खिलवाड़ किया गया है। और इस बार किसी सरफिरे हैकर ने ऐसा कुकृत्य नहीं किया है बल्कि फेसबुक के एप डेवलपरों ने ही ऐसा किया है।

साइबर सुरक्षा कंपनी अपगार्ड ने अपनी सजाल पर पूरा चिट्ठा पेश किया है जिसमें कहा गया है कि 2 त्रिपक्षीय फेसबुक डेवलपर उपयोक्ताओं का आँकड़ा सहेजने हेतु अमेजन की सार्वजनिक वेब सेवा सर्वर का उपयोग कर रहे थे।

अपगार्ड के शोधकर्ताओं को दो कंपनियों द्वारा संग्रहित डाटाबेस (तकिंदी: आँकड़ी) मिली है जिनमें फेसबुक उपयोक्ताओं की जानकारी, जैसे टिप्पणी, पसंदगी, चित्र आदि दर्ज है। कमाल की बात यह है कि इन आँकड़ी में लोगों की लोगिन पासवर्ड भी मौजूद है। ये सभी जानकारियाँ सार्वजनिक डाउनलोड हेतु उपलब्ध थे।

पहले मामले में, मैक्सिको की मीडिया कंपनी कल्तूरा कलेक्तिवा की 146 जीबी डाटा मिली जिनमें 54 करोड़ लोगों की जानकारियाँ है। यह डाटाबेस सार्वजनिक सुगम्य अमेजन एस3 में थी।

दूसरी आँकड़ी फेसबुक-एकीकृत एप से जुड़ी हुयी है जिसका नाम एट द पूल है। इसमें श्रेणियाँ बनी हुयी है, जैसे उपयोक्ता आईडी, मित्र, पसंद, चित्र, चेकइन, आदि। हैरत की बात है कि इसमें कूटशब्द भी शामिल है।

पिछले वर्ष, कैंब्रिज एनालिटिका विवाद ने लोगों को सोचने पर मजबूर कर दिया था कि जो आँकड़े आपके लिये किसी काम के नहीं हैं, वे इन जैसी कंपनियों के लिये बहुत काम की है क्योंकि इस तरह से वे नये ग्राहकों को लक्षित करते हैं और अपना उत्पाद बेचते हैं।

“जब हमें इसकी जानकारी मिली, तब हमने तत्काल अमेजन से उक्त आँकड़ियों को हटा दिया”, फेसबुक ने एक्जिओस को कहा।

पिछले वर्ष की घटना के बाद, फेसबुक अपनी मंच पर एप विकासकों की डाटा अनुमति में कड़ाई दिखा चुकी है।

हमारी आपको सलाह है कि अपना कूटशब्द हर छः महीने में बदलते रहिये ताकि ऐसे मामलों की वजह से आपका नुकसान न हो।

हालाँकि इस मामले में फेसबुक को सीधे-सीधे दोषी ठहराया नहीं जा सकता लेकिन यह एक और उदाहरण है जहाँ उपयोक्ता आँकड़ों का मनमर्जी इस्तेमाल हो रहा है।

छवि स्त्रोत: Pexels

क्या आप जानते हैं कि आपके द्वारा पढ़ा गया यह पोस्ट हजारों को प्रेरित करने वाली है? यदि इसका जवाब हाँ है तो आप अपने वही विचार यहाँ भी दे सकते हैं।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Enjoy Reading with Takniq :-)