फेसबुक अब आपकी डाटा सुरक्षा के लिये जिम्मेदार है

facebook-updated-terms-and-conditions

फेसबुक कई दफा दोहरा चुकी है कि उसने उपयोक्ता आँकड़ों के दुरुपयोग की मंजूरी नहीं दी थी और कैंब्रिज एनालिटिका ने अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव अभियान 2016 तथा ब्रेक्जिट जनमत संग्रह के दौरान डाटा खनन करके अपना समझौता तोड़ा था।

यूरोपीय संघ फेसबुक की कैंब्रिज एनालिटिका प्रकरण से काफी चिंतित है और वह इस मामले में फेसबुक को बहुत बार फटकार लगा चुकी है। इसी बीच खबर आयी है कि कंपनी ने यूरोपीय आयोग और उपभोक्ता समूहों से बात करने के बाद अपनी शर्तों में बदलाव किया है
कंपनी की नयी शर्तों के अनुसार वह सार्वजनिक तौर पर बतायेगी कि वह त्रिपक्षीयों को उपयोक्ता आँकड़ों के उपयोग के आधार पर क्या बेचती है या कोई अपना खाता कैसे बंद करेंगे और किन कारणों से आपके खातों को अक्षम किया जायेगा। ये सभी यूरोपीय संघ की उस योजना का हिस्सा है जिसमें यूरोपीय संघ चाहती है कि लोग फेसबुक की व्यवसायिक मोडल को आसान और स्पष्ट तरीके से समझ जायेंगे।
इसके अलावा इसमें इस बात का भी जिक्र है कि वह अपने उपभोक्ताओं को बतायेगी कि वह उपयोक्ता आँकड़ों के उपयोग से कैसे राजस्व हासिल करती है और किस तरह वित्तपोषित होती है।

इसके साथ, यदि फेसबुक आपकी पोस्ट को अकारण हटा देती है तो आपके पास अपील करने का मौका होगा।
यूरोपीय संघ की पोस्ट में निहित है कि फेसबुक जून 2019 तक अपनी सारी प्रतिबद्धतायें पूरी करेगी और आयोग इसकी निगरानी कर रही है।

छवि स्त्रोत: Pixabay

क्या आप जानते हैं कि आपके द्वारा पढ़ा गया यह पोस्ट हजारों को प्रेरित करने वाली है? यदि इसका जवाब हाँ है तो आप अपने वही विचार यहाँ भी दे सकते हैं।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Enjoy Reading with Takniq :-)