अब विदेशी निवेश पर नजर रखेगी यूरोपीय आयोग

europe-fdi-screening-2019

जिस तरह कृबु और अंतर्जाल के माामले में यूरोपीय संघ अपना दाँव चल चुकी है, उसी तरह की नयी पेशकश विदेश निवेश के मामले में भी चल रही है।

संघ विदेशी निवेश पर नजर रखने के लिये एक तंत्र का निर्माण कर चुकी है। इसके तहत यूरोप ने विदेशी निवेश स्क्रीनिंग नियमन लागू कर दिया है।

इसे आप चीन के खिलाफ चाल भी मान सकते हैं। बीबीसी की खबर पुष्ट करती है कि यूरोपीय आयोग ने मार्च रिपोर्ट में चीन को अपनी प्रतिद्वंद्वी माना था।

वहीं यूरोपीय संघ के चीनी राजदूत ने कहा है कि यूरोप को चीन के साथ भेदभाव वाली रवैया नहीं अपनानी चाहिये और चीन के लिये यूरोपीय व्यवसायों के द्वारा खुली होनी चाहिये।

इस तंत्र के तहत यूरोपीय आयोग के पास अधिकार है कि वह यूरोपीय संघ के सभी देशों में होने वाली विदेशी निवेशों पर अपनी राय रखेगी। ऐसा खास मौकों पर भी किया जायेगा जब कोई विदेशी निवेश यूरोपीय संघ की संप्रभुता पर सवाल उठायेगी।

“यह तंत्र यूरोप की सुरक्षा हितों का ध्यान रखेगी। हमें विदेशी कंपनियों की अधिग्रहणों पर जाँच करनी चाहिये जो यूरोप की रणनीतिक संपत्तियों को लक्षित करती हैं”, जीन क्लाउडे जंकर, अध्यक्ष, यूरोपीय आयोग ने कहा। “मैं यूरोप को व्यवसायों के लिये खुली रखना चाहता हूँ पर हम बारंबार कह चुके हैं कि हम नासमझ व्यापारी नहीं हैं।”

यूरोप में बीते 1 दशक में चीनी निवेश में वृद्धि देखी गयी है। यूरोपीय संघ की मुख्य उद्योगों में 33  प्रतिशत हिस्सा गैर-यूरोपीय संघ देशों के हाथों में है जिसमें से मात्र 9.5 प्रतिशत चीन, होंगकोंग और मकाऊ के पास है। यह एक दशक पहले 2.5 प्रतिशत थी।

वहीं अमेरिकी व कनाडाई कंपनियों की संयुक्त हिस्सेदारी 2007 में 42 प्रतिशत के मुकाबले 2016 अंत तक केवल 29 प्रतिशत रह गयी है।

यूरोपीय संघ इसी आँकड़े को देखकर चकरायी होगी कि उसके यहाँ चीनी कंपनियों की दखल बढ़ रही है।

यहाँ सिल्क रूट का जिक्र होना लाजिमी है जिसके तहत यूरोप के गरीब-अमीर सभी देश आकर्षित हैं। चीन अपनी इस बहुमहत्वकांक्षी परियोजना के तहत चीन-यूरोप के बीच सीधी जुड़ाव चाहती है।

लेकिन जब बात अर्थव्यवस्था की आती है, वहभी दूरसंचार और रक्षा जैसी जैसी क्षेत्रों में, तब सरकारें अधिक सचेत हो जाती हैं।

“हम यूरोपीय हितों की रक्षा करते हुये व्यवसायिक प्राथमिकता देते रहेंगे”, जंकर ने कहा।

छवि स्त्रोत: Pixabay

क्या आप जानते हैं कि आपके द्वारा पढ़ा गया यह पोस्ट हजारों को प्रेरित करने वाली है? यदि इसका जवाब हाँ है तो आप अपने वही विचार यहाँ भी दे सकते हैं।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Enjoy Reading with Takniq :-)