अमेजन इंटरनेट प्रदान करने हेतु कुल 3236 उपग्रह लांच करेगी

amazon-to-launch-satelites-internet

दुनिया की सबसे बड़ी ईकोमर्स कंपनी अमेजन दुनियाभर में अंतर्जाल प्रसार बढ़ाने हेतु उपग्रहों का उपयोग करने जा रही है। कंपनी की योजना है कि वह पृथ्वी की निम्न कक्षा में 3236 उपग्रहों को स्थापित करके दुनियाभर की गैर-अंतर्जाल क्षेत्रों में अपनी सेवा देगी।

इसका खुलासा द वर्ज से गीकवायर के जरिये हुआ है। इस परियोजना का नाम प्रोजेक्ट कूइपर है जो पहली दफा तब प्रकाश में आयी जब कूइपर सिस्टम्स एलएलसी ने आईटीयू में तीन याचिका दायर किया।

आईटीयू एक अंतर्राष्ट्रीय संस्था है जो उपग्रह कक्षों (आँग्ल: सैटेलाइट ओर्बिट) का नियमन देखती है।

गौरतलब है कि इस दौड़ में अमेजन अकेली कंपनी नहीं है जो दुनियाभर में अंतर्जाल का प्रसार करने के लिये अपनी उपग्रह प्रणाली लगाना चाहती है। फेसबुक भी अपनी अंतर्जाल उपग्रह व्यवस्था विकसित कर रही है।

एलन मस्क की स्पैसएक्स भी स्टारलिंक कोंस्टिलेशन कार्यक्रम के तहत 12 हजार उपग्रहों को लांच करना चाहती है। वही वनवेब नामक कंपनी 650 उपग्रहों को लांच करने पर व्यस्त है।

प्रोजेक्ट कूइपर के तहत तीन ऊँचाइयों पर उपग्रहों को प्रक्षेपित किया जायेगा: पृथ्वी की सतह से 590 किमी पर 784 उपग्रह, 610 किमी पर 1296 उपग्रह और 629 किमी पर 1156 उपग्रहों को स्थापित किया जायेगा।

ये उपग्रह 56 डिग्री उत्तर (स्कोटलैंड के मध्य से) से 56 डिग्री दक्षिण (दक्षिणी अमेरिका का सुदूर दक्षिण इलाका) तक अंतर्जाल सेवा देंगे जहाँ दुनिया की 95 प्रतिशत आबादी रहती है।

दुनियाभर में ऐसे कई क्षेत्र हैं जहाँ अभीतक 2जी भी सही से नहीं पहुँच पायी है और ऐसे में विकसित समाज का यह कर्तव्य बनता है कि वो अपना दायित्व निर्वाह करके उनलोगों को बुनियादी सुविधायें प्रदान करेंगी।

और इस तरह यह एक ऐसी परियोजना बन जाती है जिसमें डाटा भी है और अकूत धन भी, तो कोई इससे क्यों अलग रहेंगे जब वे दुनिया के गरीब इलाकों में अपनी सेवा पहुँचाकर अपनी साख बढ़ायेंगे।

“प्रोजेक्ट कूइपर के तहत पृथ्वी की निम्न कक्षा में उपग्रहों का गुच्छा लांच किया जायेगा जो दुनिया के उन इलाकों में उच्चगति ब्रोडबैंड कनेक्टिविटी प्रदान करेंगे। हम इस पहल में भागीदारों की भी तलाश कर रहे हैं”, अमेजन प्रवक्ता ने द वर्ज को कहा।

अमेजन की तरफ से स्पष्ट नहीं किया गया है कि वह इन उपग्रहों का निर्माण खुद करेगी या दूसरी कंपनी से खरीदेगी। इससे इतर उसे इसकी कार्ययोजना पर भी अमल करना बाकी है कि वह इन उपग्रहों को अंतरिक्ष में कैसे भेजेगी।

सनद रहे कि अमेजन संस्थापक जैफ बेजोस की अपनी अंतरिक्ष कंपनी है जिसका नाम ब्लू ओरिजीन है।

हालाँकि अभी इसकी लांचिंग की खबर नहीं है कि इन उपग्रहों को पृथ्वी की कक्षा में कबतक स्थापित किया जायेगा और इसे संघीय जाँच के दायरे से भी गुजरना बाकी है।

इसके साथ यह भी तय करना बाकी है कि जब इन उपग्रहों का कार्यकाल पूरा हो जायेगा, तब इनका निपटान कैसे होगा। गौरतलब है कि जो उपग्रह अपना अभियान पूरा कर लेते हैं, वे फिर अंतरिक्ष में कचरे की ढेर की तरह पड़े रहते हैं और पृथ्वी का चक्कर लगाते रहते हैं जबतक कि वे नष्ट न हो जाये।

छवि स्त्रोत: Pexels

क्या आप जानते हैं कि आपके द्वारा पढ़ा गया यह पोस्ट हजारों को प्रेरित करने वाली है? यदि इसका जवाब हाँ है तो आप अपने वही विचार यहाँ भी दे सकते हैं।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Enjoy Reading with Takniq :-)