वीचैट अपनी भुगतान सेवा वीचैट पे शुरु कर सकती है

wechat pay china

चीनी प्रौद्योगिकी दिग्गज टैंसेंट हमारे देश में यूपीआई-आधारित भुगतान सेवा लांच कर सकती है। टैंसेट समर्थित वीचैट अपनी यह सेवा वीचैट पे के नाम पर दे सकती है।

भारत में यूपीआई बाजार तत्पूर्व संतुलित हो चुकी है जिसके बड़े भाग पर पेटीएम का कब्जा है। इसके साथ भीम, फोनपे, गूगल पे और अन्य खिलाड़ी भी संघर्ष करते दिख रहे हैं। नेशनल पेमेंट कोरपोरेशन ओफ इंडिया की सजाल के मुताबिक, फरवरी19 में ₹1 लाख करोड़ से अधिक यूपीआई लेनदेन हो चुकी है।

और वीचैट इस आँकड़े को देखकर भारतीय भुगतान बाजार का हिस्सा बनना चाहती है। इससे पहले शाओमी भी अपनी यूपीआई एप एमआई पे लांच कर चुकी है। गौरतलब है कि वाट्सेप की भुगतान सेवा अभीभी बीटा संस्करण में है और केवल सीमित उपयोक्ताओं हेतु उपलब्ध है। ये कंपनियाँ वाट्सेप पे में हो रही देरी का भी भरपूर लाभ उठाना चाहते हैं। वाट्सेप के पास दुनिया का सबसे बड़ा ग्राहक आधार है जो उनकी वाट्सेप एप के जरिये भुगतान सुविधा की पहुँच कई गुना अधिक बढ़ा देती है।

2016 में, टैंसेंट ने भारतीय संदेशी सेवा कंपनी हाईक में $175 मिलियन निवेश किया था। ऐसा हो सकता है कि कंपनी अपनी यूपीआई सेवा को हाईक एप में एकीकृत कर देगी। कंपनी प्लेयरअननोन्स बैटलग्राउंड्स यानि पबजी गेम की लोकप्रियता को भुनाते हुये अपनी गेम एप में वीचैट पे का इस्तेमाल कर सकती है।

यह सेवा मई-जून से शुरु हो सकती है जिसके लिये कंपनी के अधिकारीगण तीन सप्ताह पहले नेशनल पेमेंट कोरपोरेशन ओफ इंडिया आये थे।

यह देखना वाकई दिलचस्प होगा कि कंपनी बाजार में तत्पूर्व मौजूद पेटीएम, गूगल पे, फोनपे, भीम, आदि सेवाओं से कैसे निपटेगी जहाँ त्रिपक्षीय कंपनियों के पास सिर्फ आँकड़ों का भंडार होगा पर चाबी बैंकों और एनपीसीआई के पास है।

छवि: WeChat

क्या आप जानते हैं कि आपके द्वारा पढ़ा गया यह पोस्ट हजारों को प्रेरित करने वाली है? यदि इसका जवाब हाँ है तो आप अपने वही विचार यहाँ भी दे सकते हैं।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Enjoy Reading with Takniq :-)