आइआईटी कानपुर देगी साथ, स्टार्टप खोलिये आप

iit kanpur
स्त्रोत: Collage made from photos of IIT Kanpur

छात्रों के लिए उनका भविष्य ही सर्वोपरि होता है। जो छात्र अपने स्टार्टअप तैयार कर रहे हैं और उन्हें दुनिया के सामने प्रस्तुत करने की चिंता करते हैं, उनके लिए आईआईटी कानपुर की ओर से एक खुशखबरी आयी है।

कानपुर के किसी भी कोलेज के छात्र अगर अच्छा स्टार्टअप आइडिया लेकर आते हैं तो आईआईटी उन्हें पूरी मदद देगी। उन्हें सिडबी इनोवेशन एंड इंक्यूबेशन सेंटर के जरिये फंड दिया जायेगा और कंपनी स्थापित करने में भी मदद की जायेगी। उत्थान आंत्रप्रेन्योरशिप कॉन्क्लेव के समापन समारोह में आईआईटी कानपुर के निदेशक प्रो. अभय करंदीकर ने यह कहा।

प्रो. करंदीकर ने छात्रों को उद्यमिता की ओर अग्रसर होने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि नौकरी के पीछे भागने की बजाय नौकरी देने वाला बनने की कोशिश करना चाहिये। उन्होंने बताया कि संस्थान में रिसर्च पार्क स्थापित किया जाना है। इसके लिये भी एक नयी गैर-लाभकारी कंपनी की शुरूआत की जायेगी।

इस कंपनी के जरिए इनोवेशन, रिसर्च और उद्यमिता को बढ़ाया दिया जायेगा। इस कंपनी के जरिये भी हर किसी को स्टार्टअप शुरू करने के लिए मदद दिलायी जायेगी।

समारोह की अध्यक्षता कर रहे हरकोर्ट बटलर टेक्निकल यूनिवर्सिटी (एचबीटीयू) के कुलपति प्रो. एनबी सिंह ने कहा कि आने वाले दिनों में एचबीटीयू स्टार्टअप का एक बड़ा केंद्र होगा। प्रो. सिंह ने उत्थान के मंच से घोषणा की कि जल्द ही विश्वविद्यालय के नियमों में बदलाव करके तृतीय व चतुर्थ वर्षीय छात्रों को अकादमिक गतिविधियों से छुट्टी देने का प्रावधान कर लिया जायेगा जो खुद का स्टार्टअप शुरू करना चाहते हैं।

छात्रों को कंपनी शुरू करने के लिए विश्वविद्यालय में सारी सुविधायें भी मुहैया करायी जायेंगी। संचालन डॉ. एसके गुप्ता ने किया। इस दौरान डीन इंक्यूबेशन सेंटर एचबीटीयू प्रो. कृष्णराज, प्रति कुलपति प्रो. करुणाकर सिंह, रजिस्ट्रार प्रो. मनोज शुक्ला, प्रो. आरके त्रिवेदी, एआईटीएच की निदेशक प्रो. रचना अस्थाना, यूपीटीटीआई के निदेशक प्रो. मुकेश कुमार आदि मौजूद रहे।

आईआईटी में स्थापित होगी सेंटर फोर सस्टेनेबल डेवलपमेंट

निदेशक प्रो. करंदीकर ने बताया कि देश के विकास में अहम भूमिका निभाने के लिए आईआईटी में जल्द ही सेंटर फोर सस्टेनेबल डेवलपमेंट स्थापित किया जायेगा। इसमें एचबीटीयू को भी भागीदार बनाया जाएगा। इस सेंटर के जरिये सामाजिक विकास के लिए वैज्ञानिक, शिक्षाविद और सामाजिक कार्यकर्ता मिलकर काम करेंगे।

रिसर्च के लिये एक होंगे एचबीटीयू और आईआईटी

एचबीटीयू के कुलपति प्रो. एनबी सिंह ने कहा कि रिसर्च क्षेत्र में जल्द ही आईआईटी और एचबीटीयू के वैज्ञानिक मिलकर काम करेंगे। प्रो. सिंह ने कहा कि इसके लिए एक प्रस्ताव तैयार किया जा रहा है। जल्द ही दोनों संस्थानों के बीच इसको लेकर एमओयू किया जायेगा।

यह देश के भविष्य के उत्थान की ओर एक नया और बेहतरीन कदम उठाया गया है। आशा है कि यह कदम आगे चलकर सफल होगा।

छवि स्त्रोत: IIT Kanpur

Shristy Jain

Student by profession? writer by passion✍️

क्या आप जानते हैं कि आपके द्वारा पढ़ा गया यह पोस्ट हजारों को प्रेरित करने वाली है? यदि इसका जवाब हाँ है तो आप अपने वही विचार यहाँ भी दे सकते हैं।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Enjoy Reading with Takniq :-)