यूरोपीय उपयोक्ता एंड्राएड में मनपसंद ब्राउजर और खोजी इंजन रख पायेंगे

chrome on android

गूगल तीसरी बार यूरोपीय भरोसाविरोधी जुर्माना भरने की ओर बढ़ रही है। और इसी बीच कंपनी ने उद्घोषणा किया है कि वह यूरोपीय एंड्राएड उपयोक्ताओं को चुनाव का हक देगी कि वे किस ब्राउजर को अपने फोन में रखना चाहते हैं और किस खोजी इंजन (आँग्ल: सर्च इंजन) के जरिये इंटरनेट खंगालेंगे।

हालिया उद्घोषणा नियामकीय कार्रवाई के बाद आयी है जिसके तहत कंपनी पर आरोप है कि वह अपनी एंड्राएड ओपरेटिंग सिस्टम में ब्रह्मा की भूमिका निभाते हुये अन्य प्रतियोगी कंपनियों को घुसने से रोक रही है।

पिछले वर्ष यूरोपीय नियामक ने गूगल पर $5 बिलियन जुर्माना लगाया गया था। इसके साथ नियामक ने आदेश भी जारी किया था कि कंपनी एंड्राएड पर क्रोम और खोजी एप को जबर्दस्ती थोपना बंद करेगी।

बकौल कैंट वाकर, गूगल में वैश्विक मामलों के वरिष्ठ उपाध्यक्ष, “गूगल यूरोप में मौजूदा और नयी एंड्राएड उपकरणों को इस्तेमाल करने वाले लोगों के लिये अपनी सेवायें चुनने का मौका देगी।”

हालाँकि ऐसा कब से शुरु होगा, इसके बारे में कुछ बोला नहीं गया है।

छवि स्त्रोत: Pexels

क्या आप जानते हैं कि आपके द्वारा पढ़ा गया यह पोस्ट हजारों को प्रेरित करने वाली है? यदि इसका जवाब हाँ है तो आप अपने वही विचार यहाँ भी दे सकते हैं।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Enjoy Reading with Takniq :-)