वालमार्ट स्वामित्व की फ्लिपकार्ट ने 26 मार्च को अपना भेंचर फंड लांच किया

flipkart logo

वालमार्ट स्वामित्व की फ्लिपकार्ट ने 26 मार्च को अपना भेंचर फंड लांच किया जो भारत की प्रारंभिक चरणीय स्टार्टपों को सहायता देगी। यह रकम कितनी होगी, इसका खुलासा नहीं किया गया है पर तकमध्यमा खबरों पर भरोसा करें तो यह रकम ₹400-700 करोड़ हो सकती है।

भारत में 2022 तक अंतर्जाल उपयोक्ताओं की संख्या 60 करोड़+ होगी और ऐसे में हर भारतीय तकनीक अपनाने लिये जुटे हुये हैं और ऐसे में स्टार्टपों की संख्या बढ़ना लाजिमी है जो बदलते भारत की बदलती तस्वीरों के साथ वर्तमान समस्याओं का समाधान देंगे।

जब हो समाधान, तो क्यों हो परेशान – तकनीकतकनीक पढ़िये, अपना दिन बदलिये।

पढ़िये: फ्लिपकार्ट क्यों याद रखी जानी चाहिये?

फ्लिपकार्ट इस फंड का उपयोग ऐसी कंपनियों में करेगी जो ईकोमर्स, भुगतान और इससे संबंधित क्षेत्रों में काम करती हैं।

हमने अपनी पिछली आलेख में आपको बताया था कि फ्लिपकार्ट के नवाचार ने एक ऐसा ईको सिस्टम बनाया जिसकी मदद से ना सिर्फ भारतीय ईकोमर्स उद्योग में अभूतपूर्व उछाल देखने को मिला बल्कि उसने लोगों की सोच पर भी प्रहार किया जो मानती है कि भारतीय कुशल कंपनियाँ नहीं चला सकते हैं।

कंपनी ने आपूर्ति शृंखला (आँग्ल: सप्लाई चैन), लोजिस्टिक्स, विक्रय-पश्चात व समर्थन तथा प्रौद्योगिकी में अहम योगदान दिया है। फ्लिपकार्ट की सीपियों पर चलते हुये ऐसे कई लोग मिल जायेंगे जो आज स्टार्टप जगत में नामचीन बने पड़े हैं।

ऐसे में फ्लिपकार्ट का हालिया कदम उन स्टार्टपों को बूस्ट कर सकती है जो अपने पंख फैलाने के लिये चारों ओर देख रहे हैं।

छवि स्त्रोत: plusPNG.com

क्या आप जानते हैं कि आपके द्वारा पढ़ा गया यह पोस्ट हजारों को प्रेरित करने वाली है? यदि इसका जवाब हाँ है तो आप अपने वही विचार यहाँ भी दे सकते हैं।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Enjoy Reading with Takniq :-)