Ananya, ENTERPRISE

एपल भारत में आईफोन 6एस की कीमतें कम करने के लिये स्थानीय विनिर्माण करेगी

एपल भारतीय बाजारों में अपनी धाक जमाना चाहती है लेकिन उसकी फ्लैगशिप फोन आईफोन की कीमत इसके प्रसार में आड़े आ रही है। परंतु अब कंपनी बंगलुरु में अपनी नयी उत्पादन इकाई के जरिये आईफोन की कीमत कम करना चाहती है ताकि कंपनी यहाँ बिक्री में नयी कीर्तिमान रच सकेगी।

कंपनी आईफोन 6एस की कीमत में कमी लाने के लिये एक नयी कारखाने में उत्पादन शुरु कर रही है। इकोनोमिक टाइम्स की खबर के अनुसार, अगले दो सप्ताह में विनिर्माण शुरु हो सकती है। कंपनी भारत में नयी कारखाने के साथ आईफोन कीमतों में जुड़ने वाली कर (आँग्ल: टैक्स) दरों को कम करना चाहती है।

एपल भारत में ही पार्ट निर्माण और पैकेजिंग करके अतिरिक्त खर्च कम करना चाहेगी। इससे पहले, भारत सरकार सर्किट बोर्ड, कैमरा मोड्युल, कनैक्टर, आदि पर 10 प्रतिशत कस्टम ड्युटी की उद्घोषणा कर चुकी है। भारत सरकार भी स्थानीय स्मार्टफोन अर्थव्यवस्था को सुदृढ़ करना चाहती है।

इस फरवरी में, भारत सरकार ने विदेशी स्मार्टफोनों पर 15-20 प्रतिशत कर बढ़ा दिया था। इकोनोमिक टाइम्स के अनुसार, यदि आईफोन की कीमतों मे गिरावट आती है, तब आईफोन की कीमत चीनी फोन वनप्लस या सैमसंग फोन के बराबर आ जायेगी। स्थानीय विनिर्माण की वजह से आईफोन की कीमतों में 5-7 प्रतिशत की गिरावट हो सकती है। इसके बाद एपल भारतीय बाजारों में कीमतों के लिहाज से प्रतियोगी बनी रह सकेगी।

भारत में, आईफोन 6एस प्लस तीन साल बाद भी लोकप्रिय बनी हुयी है। इसकी कीमत अन्य आईफोन मोडलों के मुकाबले कम है और इसकी मुख्य विशेषतायें अन्य आईफोन जैसी है। आईफोन 6एस भारत में असैंबल होने वाली दूसरी आईफोन होगी लेकिन इसका विनिर्माण (आँग्ल: मैनुफैक्चरिंग) 100 टका भारत में नहीं होगा।

छवि स्त्रोत: Pexels

क्या आप जानते हैं कि आपके द्वारा पढ़ा गया यह पोस्ट हजारों को प्रेरित करने वाली है? यदि इसका जवाब सकारात्मक है तो आप अपने वही विचार यहाँ भी दे सकते हैं।