Ananya, APPS, ENTERPRISE

ट्विटर पर अब आप भी अपने खाते में नीला निशान लगाकर सत्यापित हो सकेंगे

twitter

ट्विटर सीईओ जैक डोर्सी ने कल एक पेरिस्कोप लाइवस्ट्रीम में कहा कि कंपनी हर उपयोक्ता को सत्यापित बनने की अनुमति देने पर काम कर रही है।

“हमारा इरादा सभी के लिये सत्यापन लाना है”, डोर्सी ने कहा। “और इसे ऐसे करना है जो पैमानीय होगी और ट्विटर कहीं से भी बीच में दिखायी नहीं पड़ेगी। लोग तथ्यों को खुद सत्यापित करेंगे और हमें हमारे तरफ से न्यायधीश बनने की जरूरत नहीं पड़ेगी या हमारे तरफ से कोई पूर्वाग्रह नहीं होगा।”

डोर्सी ने इसे विस्तार से नहीं बताया कि यह प्रक्रिया कैसे होगी लेकिन कई ओनलाइन समुदाय, जैसे एयरबीएनबी पर उपयोक्ताओं को अपना फेसबुक प्रोफाइल, फोन संख्या, ईमेल पता, या सरकारी पहचान पत्र जमा करने की आवश्यकता होती है।

जब ट्विटर ने पहलेपहल सत्यापित प्रोफाइलों को दिखाने के लिये नीले निशान की शुरुआत की थी, तब इन्हें मूल रूप से सार्वजनिक लोगों, जैसे हस्तियों में बाँटा गया था। उसके बाद, कंपनी ने पत्रकारों सहित अन्य उच्च प्रोफाइलों को सत्यापित करके नीला निशान चिपका दिया जिससे नीला निशान ऊँची शान की प्रतीक बनने लगी।

हालाँकि कंपनी ने 2016 में हर किसी को सत्यापन का अनुरोध करने की अनुमति दे दी पर इसके साथ उपयोक्ताओं से वजह जानना चाहा कि उन्हें इसकी जरूरत क्यों पड़ी है। अंततः औसत उपयोक्ताओं को नीले निशान से वंचित रखा गया।

“हम निशान का उपयोग पहचान के संदर्भ में करते हैं”, ट्विटर के उत्पाद निदेशक डेविड गास्का ने कहा। “किंतु उपयोक्ता अनुसंधान में, उपयोक्ता इसे विश्वसनीयता के साथ जोड़कर देखते हैं और मानते हैं कि ट्विटर उक्त व्यक्ति के साथ खड़ी है और जो वे कहते हैं, वे बातें महान एवं प्रामाणिक होती है, जोकि हमारा उद्देश्य कतई नहीं है।”

ट्विटर का विचार यह है कि यदि प्रत्येक सत्यापित हो जाते हैं, तो कंपनी निशान का अर्थ बदल सकती है और खाता सत्यापित किये बिना भी कोई संदिग्ध नहीं रहेंगे।

डोर्सी ने पहचान के साथ गुमनामी को भी ट्विटर संस्कृति का अहम हिस्सा बताया। उन्होंने कहा कि ट्विटर असली नाम बताने की नीति पर अमल नहीं करेगी क्योंकि वह मंच को उनलोगों के लिये सुरक्षित बनाना चाहते हैं जो बेखौफ होकर मंच पर अपने विचार साझा करते हैं।

वह कहते हैं कि दल उन खातों को बेहतर तरीके से दिखाने पर काम कर रही है जिनके ट्विटों को तथ्यों से परे मान लिया जाता है। (ट्विटर खाता @dprk_news को गलती से उत्तर कोरियाई समाचारों का असली स्त्रोत मान लिया जाता है।)

यह अनोद्घोषित पेरिस्कोप लाइवस्ट्रीम ट्विटर की उस नयी पहल का हिस्सा है जिसका उद्देश्य कंपनी की स्वास्थ्य पर खुली चर्चा करवाना है। डोर्सी कुछ वक्त पहले ट्विटर की एक दल का हिस्सा बने हैं जो बड़े पैमाने पर मुद्दों, गलत सूचनाओं, बोट्स और अपमानजनक या अवैध सामग्री के प्रसार के साथ ट्विटर पर चल रही लड़ाइयों पर चर्चा करने के लिए एक पारदर्शी और खुली जगह प्रदान करना चाहते हैं। यद्यपि उनका कहना है कि वह ऐसी अनौपचारिक चर्चा दोबारा करेंगे लेकिन स्पष्ट करने से बचे कि अगली लाइवस्ट्रीम कब होगी।

“हमें काफी कुछ करना है”, उन्होंने कहा। “यह एक रात में पूरी होने वाली नहीं है। हमें मुक्त वातावरण में काम करने की आदत डालनी होगी। यह कई मायनों में असुविधाजनक होगी लेकिन सुरक्षा चुनौतियों के मद्देनजर ऐसा करना जरूरी है।”

क्या आप जानते हैं कि आपके द्वारा पढ़ा गया यह पोस्ट हजारों को प्रेरित करने वाली है? यदि इसका जवाब सकारात्मक है तो आप अपने वही विचार यहाँ भी दे सकते हैं।