Ananya, APPS

माइक्रोसोफ्ट ने स्काइप का हल्का संस्करण लांच किया

माइक्रोसोफ्ट ने एंड्राएड पर स्काइप का अद्यतित संस्करण लांच कर दिया है जो एंड्राएड की पुरानी ओएस पर चालित उपकरणों पर भी बेहतर काम करेगी।

यह नयी अद्यतन एंड्राएड 4.0.3 से 5.1 तक की ओएस पर चालित उपकरणों के लिये स्काइप एप को इष्टतम (ओप्टिमाइज) बनायेगी। माइक्रोसोफ्ट के अनुसार, “यह संस्करण कम भंडारण लेती है और इसके साथ स्मृति उपभोग भी ज्यादा नहीं करती है।”

“इस तरह इन उपकरणों में वीडियो और आवाज की गुणवत्ता बेहतर हो जायेगी। अंतर्जाल गति तेज नहीं होने के बावजूद आपको एप बेहतर प्रदर्शन देगी।”

यह अद्यतन आगामी सप्ताहों में दुनियाभर में जारी हो जायेगी जिसके बाद उपयोक्ता अपने एंड्राएड मोबाइल पर इसका लुत्फ उठा पायेंगे।

माइक्रोसोफ्ट का यह प्रयत्न गूगल की एंड्राएड गो जैसी है जिसे अधिक प्रोसेसिंग शक्ति, रैम या भंडारण (स्टोरेज) की आवश्यकता नहीं पड़ती है। एंड्राएड गो से चालित मोबाइल फोन को इस तरह बनाया गया है कि वे सीमित अंतर्जाल पर भी बेहतर काम कर सकते हैं।

सीमित अंतर्जाल की दुनिया में माइक्रोसोफ्ट पहली खिलाड़ी नहीं है जिसने अपने किसी एप का लाइट संस्करण (हल्का) पेश किया है। इससे पहले फेसबुक ने भी मैसेंजर का हल्का संस्करण मैसेंजर लाइट पिछले अक्तूबर में लांच किया था। फेसबुक की मैसेंजर लाइट में सामान्य एप से कम विशेषतायें मौजूद हैं। ट्विटर ने भी अपनी मोबाइल सजाल का हल्का संस्करण सितंबर में लांच किया था जिसे कम डाटा की जरूरत होती है पर दुनियाभर में इसकी प्रदर्शन शक्ति बेजोड़ है, विशेषकर ऐसी जगहों में, जहाँ नवीनतम मोबाइल फोन उपलब्ध नहीं है या महंगी है।

छवि स्त्रोत: skype

क्या आप जानते हैं कि आपके द्वारा पढ़ा गया यह पोस्ट हजारों को प्रेरित करने वाली है? यदि इसका जवाब सकारात्मक है तो आप अपने वही विचार यहाँ भी दे सकते हैं।