Ananya, ENTERPRISE

माइक्रोसोफ्ट ईमेल कड़ियों के लिये विंडोज 10 उपयोक्ताओं को सिर्फ एज ब्राउजर का उपयोग करने देगी

माइक्रोसोफ्ट विंडोज 10 की भावी संस्करण में एक नयी बदलाव का परीक्षण कर रही है जो विंडोज 10 ओपरेटिंग सिस्टम का उपयोग करने वालों के लिये थोड़ी अजीबोगरीब हो सकती है।

सोफ्टवेर दिग्गज ने अपनी सजाल पर इसका खुलासा करते हुये कहा है कि वह एक परीक्षण करने जा रही है जिसमें विंडोज मेल एप के भीतर किसी लिंक (कड़ी) को क्लिक करने पर वह माइक्रोसोफ्ट एज ब्राउजर में खुलेगी

इसका साफ मतलब यही है कि यदि आपने विंडोज 10 उपकरण में गूगल क्रोम या फायरफोक्स को मूलभूत (डिफोल्ट) ब्राउजर के रूप में रखा है, तबभी माइक्रोसोफ्ट इसकी उपेक्षा करते हुये आपको एज ब्राउजर में भेज देगी जब आप मेल एप में किसी कड़ी पर क्लिक करते हैं।

यह उसी तरह का बदलाव है जैसे, जब माइक्रोसोफ्ट ने कोर्टाना में बिंग खोज को बलपूर्वक लागू कर दिया था और उसकी परिणाम अन्य किसी ब्राउजर के बजाय माइक्रोसोफ्ट की एज ब्राउजर में ही दिखायी जाती है। “हम हमेशा अपने विंडोज इनसाइडर समुदाय से सुझाव की कामना रखते हैं। हमें विश्वास है कि इस गैरजरूरी बदलाव के लिये हमें बहुत सारे सुझाव मिलेंगे और कंपनी इनकी उपेक्षा नहीं करना चाहेगी”, माइक्रोसोफ्ट की डोना सरकार ने अपने ब्लोगपोस्ट में कहा

माइक्रोसोफ्ट ने गूगल क्रोम से मिलती प्रतिस्पर्धा को देखते हुये पहले इंटरनेट एक्सप्लोलर को चलता किया और फिर उसकी जगह माइक्रोसोफ्ट एज ब्राउजर को दुनिया के सामने पेश किया गया।

माइक्रोसोफ्ट तब से विंडोज 10 उपयोक्ताओं को क्रोम, फायरफोक्स जैसी ब्राउजरों के बजाय एज ब्राउजर का उपयोग ज्यादा करने पर जोर दे रही है लेकिन क्रोम ब्राउजर अभी भी डेस्कटोप पर शीर्ष ब्राउजर के तौर पर विद्यमान है।

यह देखना दिलचस्प होगा कि विंडोज इनसाइडर माइक्रोसोफ्ट के इस रूख का किसी तरह स्वागत करते हैं और क्या लोग वाकई इस तरह क्रोम या फायरफोक्स से एज पर जाना पसंद करेंगे। इसमें कोई दुविधा नहीं है कि लोग सिर्फ इस कदम से विंडोज ओपरेटिंग सिस्टम का उपयोग करना छोड़ देंगे। और यह नाराजगी कुछ वक्त के लिये रह सकती है जो बाद में बीते वक्त की कहानी बन जायेगी।

छवि स्त्रोत: pexels.com

क्या आप जानते हैं कि आपके द्वारा पढ़ा गया यह पोस्ट हजारों को प्रेरित करने वाली है? यदि इसका जवाब सकारात्मक है तो आप अपने वही विचार यहाँ भी दे सकते हैं।