Ananya, INTERNET

गूगल अब मोबाइल-प्रथम इंडैक्सिंग शुरु कर रही है

google search engine in tablet device

गूगल ने कल उद्घोषणा किया कि वह अब सजाल वरीयता (वेबसाइट रैंकिंग) के लिये मोबाइल-प्रथम इंडैक्सिंग शुरु करेगी। गूगल इसे करीब डेढ़ साल के परीक्षण के बाद लागू करने जा रही है।

गूगल ने नवंबर 2016 में इससे जुड़ी योजना पेश किया था जो खोज इंडैक्स (सूचकांक) की कार्य संचालन में बदलाव लाने के लिये थी। गूगल ने तब कहा था कि उसकी अल्गोरिदम (कलनिधि) सभी सजालों की मोबाइल संस्करण की खोज सूचकांक (सर्च इंडैक्स) का उपयोग करेगी।

इससे सजाल की सामग्री से जुड़ी गठित आँकड़ों की समझ के साथ उक्त सजालों की स्निपेट गूगल खोज परिणामों में दिखायी देगी। दिसंबर 2017 में, गूगल ने कुछ सजालों पर मोबाइल-प्रथम इंडैक्सिंग लागू किया था लेकिन इन सजालों का नाम नहीं बताया गया था।

मोबाइल-प्रथम इंडैक्सिंग का मतलब साफ है कि अब गूगल आपके सजाल की इंडैक्सिंग (सूचकन) और वरीयता (रैंकिंग) के लिये किसी वेबपृष्ठ की मोबाइल संस्करण का उपयोग करेगी। बकौल गूगल, अधिकतर उपयोक्ता मोबाइल उपकरणों पर अंतर्जाल सेवा का लुत्फ उठा रहे हैं, ऐसे में उन्हें वही मिलना चाहिये जिसकी खोज में वे गूगल खोज पर आते हैं।

गूगल ने साफ किया है कि वह खोज परिणामों के लिये अलग सूचकांक रखेगी जो मोबाइल-प्रथम सूचकांक नहीं होगी और उसकी मुख्य सूचकांक से पृथक रहेगी। यहाँ गूगल स्पष्ट कर रही है कि वह मोबाइल-प्रथम वेब के तहत केवल मोबाइल उपकरणों पर वेबपृष्ठों का सूचकांक निर्धारित करेगी, डेस्कटोप संस्करण का नहीं।

गौरतलब है कि गूगल की खोज परिणामों में नजर आने के लिये सजालों का मोबाइल मैत्री होना बहुत जरूरी है लेकिन यह सिर्फ एक कारक नहीं है। गूगल के अनुसार, कई गैर-मोबाइल मैत्री पृष्ठों में अभी भी सर्वश्रेष्ठ सूचना हो सकती है जिसकी वजह से वे ज्यादा दिखायी देते हैं।

गूगल ने जनवरी 2018 में एक संकेत जोड़ा था जो पृष्ठ गति (पेज स्पीड) की मदद से किसी पृष्ठ की मोबाइल खोज वरीयता निर्धारित करती है। यह संकेत इसी जुलाई से शुरु हो रही है जिसकी वजह से धीरे-धीरे लोड होने वाले पृष्ठ की वरीयता कम हो जायेगी और वे खोज परिणामों में कम दिखेंगे।

वैसे गूगल ने दावा किया है कि उसकी मोबाइल-प्रथम इंडैक्सिंग किसी सामग्री की वरीयता पर सीधा प्रभाव नहीं डालेगी और यह सिर्फ एक नयी दीगर है कि यदि आपकी पृष्ठ मोबाइल मैत्री है, तो वह मोबाइल खोज परिणामों में ज्यादा नजर आयेगी।

इसके साथ गूगल जल्दी लोड होने वाली एएमपी पृष्ठों के बजाय किसी वेबपृष्ठ की मोबाइल संस्करण को ज्यादा तरजीही देगी।

गूगल ने वेबमास्टरों को कहा है कि उन्हें इस अद्यतन से घबराने की जरूरत नहीं है। गूगल ने उद्घोषणा में जोड़ा कि यदि आपके पास केवल डेस्कटोप सामग्री है, तो आप उनके इंडैक्स में नजर आयेंगे।

हालाँकि कंपनी ने नहीं बताया है कि वह कब मोबाइल-प्रथम इंडैक्सिंग पूर्ण रूप से जारी करने जा रही है।

क्या आप जानते हैं कि आपके द्वारा पढ़ा गया यह पोस्ट हजारों को प्रेरित करने वाली है? यदि इसका जवाब सकारात्मक है तो आप अपने वही विचार यहाँ भी दे सकते हैं।