APPS, ENTERPRISE, MOBILES

अब फेसबुक पर लोगों से गुफ्तगू करने के लिये आवाज लगाइये, खास भारतीयों के लिये

फेसबुक एक नयी विशेषता “आवाजी क्लिप” का परीक्षण कर रही है जो आपकी स्टेटस अपडेट विंडो में दिखायी देती है। इससे लोग स्टेटस अपडेट करने के लिये ध्वनि रिकोर्ड करके प्रकाशित कर सकेंगे।

फेसबुक के अनुसार, लोग आपस में ध्वनियों के जरिये विचार साझा करना ज्यादा पसंद करेंगे। इस ध्वनि क्लिप का उपयोग उन इलाकों में बेहतर हो पायेगा जहाँ उनकी भाषाओं में कीबोर्ड अनुपलब्ध है और आवाज उन्हें बगैर किसी टंकण (टाइपिंग) बाधा के अपने विचार साझा करने देगी।

फेसबुक इस ध्वनि क्लिप का परीक्षण भारत में कुछ उपयोक्ताओं के साथ कर रही है। इसपर सबसे पहले अभिषेक सक्सेना ने ध्यान दिया।

“हम लोगों को उनके परिजनों एवं मित्रों के साथ फेसबुक पर बेहतर तरीके से जोड़ने के लिये हमेशा कार्यरत हैं। आवाजी क्लिप लोगों को विचार व्यक्त करने का नयी माध्यम देती है”, फेसबुक प्रवक्ता ने टेकक्रंच से कहा। हालाँकि, यह अभीतक अज्ञात है कि यह विशेषता वैश्विक तौर पर कबतक लांच होगी।

फेसबुक हालिया वर्षों में व्यक्तिगत सामग्री के बजाय ट्विटर की तरह समाचार लेखों, आदि साझा करने के लिये अधिक मशहूर रही है। दि इन्फोर्मेशन के अनुसार, फेसबुक की वास्तविक सामग्री 2016-मध्य तक 15 प्रतिशत तक पहुँच गयी है।

फेसबुक के लिये खतरा यह है कि वह ऐसी जगह बन गयी है जहाँ लोग कुछ नया करते हैं और फिर, उस पोस्ट को साझा करने की बाढ़ लग जाती है। फेसबुक ने इससे निपटने के लिये भरोसेमंद समाचार के चुनाव से लेकर स्थानीय समाचारों को बढ़ावा देने तक की पहल पर काम किया है लेकिन 2017 की चौथी तिमाही में इसके 7 लाख उपयोक्ता कम हो गये।

आवाजी क्लिप लोगों को गहरे व्यक्तिगत संदेश साझा करने देगी जब लोग घरों में होंगे और वे कैसे दिख रहे हैं, उसकी परवाह किये बगैर फेसबुक पर आवाजी संदेश साझा कर सकेंगे।

फेसबुक आवाजी विशेषताओं पर गंभीर है और होम स्पीकर उपकरण लाने वाली है

सामध्यमा कंपनी फेसबुक इन दिनों आवाजी विशेषताओं पर अधिक गंभीर दिख रही है और वह फियोना एवं अलोहा नामक स्मार्ट होम स्पीकर पर पहले से काम कर रही है। अलोहा मोडल फियोना से बेहतर है जिसका डिजाइन फेसबुक की बिल्डिंग 8 हार्डवेर लैब द्वारा तैयार किया गया है। फेसबुक की ये दोनों स्पीकर जुलाई में लांच हो सकती है।

“अलोहा मोडल पोर्टल नाम से आधिकारिक तौर पर बाजार में आयेगी जो आवाजी आदेशों का उपयोग करेगी किंतु इस उपकरण के सामने लगी लैंस के जरिये उपयोक्ताओं को पहचानने के लिये फेशियल रिकग्निशन (चेहरा पहचान) विशेषता का उपयोग भी कर सकती है”, डिजीटाइम्स रिपोर्ट में उल्लेखित।

फेसबुक की मैसेंजर पर पहले से निजी वोयस क्लिप साझा करने का विकल्प है लेकिन पोडकास्टिंग की लोकप्रयिता ने आवाजी संदेशों की महिमा बढ़ा दी है। इसीलिये फेसबुक अपने मंच पर आवाजी संदेशों को ज्यादा जगह देने के लिये भरसक प्रयास कर रही है।

छवि स्त्रोत: शीर्ष (pexels.com) व द्वितीय (@tagabhishek)

क्या आप जानते हैं कि आपके द्वारा पढ़ा गया यह पोस्ट हजारों को प्रेरित करने वाली है? यदि इसका जवाब सकारात्मक है तो आप अपने वही विचार यहाँ भी दे सकते हैं।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.