Ananya, INTERNET

यूरोपीय संघ अब ब्रिटिश नागरिकों को .eu डोमेन से वंचित रखेगी

Person wearing wool cap of london-england-uk-city

जब से ब्रिटेन ने यूरोपीय संघ से अलग होने की घोषणा किया है, तब से यूरो संघ उसे हर मोर्चे पर पटखनी देने पर आमादा है। अब यूरोपीय संघ ब्रिटिश नागरिकों और कंपनियों को .eu डोमेन रखने नहीं देना चाहती है।

यूरोपीय आयोग ने उद्घोषणा किया है कि ब्रैक्जिट पूरी होने के बाद सभी ब्रिटिश नागरिक और कंपनियाँ .eu डोमेन नहीं रख पायेंगी। आयोग, यूरोपीय संघ की विधायी निकाय ने अपने पत्र में कहा है कि ऐसी कंपनियाँ जो यूनाइटेड किंगडम में स्थापित हैं पर यूरोप में नहीं हैं और जो लोग यूनाइटेड किंगडम में रहते हैं, वे .eu डोमेन नहीं खरीद पायेंगे या नवीकरण (रीन्यू) करने से वंचित रहेंगे।

इसके बारे में सटीक जानकारी नहीं है कि ऐसा कब किया जायेगा लेकिन आयोग का मानना है कि ब्रैक्जिट की तारीख तक यह पूर्ण हो जायेगी। ब्रिटेन 30 मार्च 2019 तक यूरोपीय संघ से पूरी तरह अलग हो जायेगी।

यूरोपीय आयोग का ताजा फैसला ब्रिटेन के लिये जोरदार झटका नहीं है लेकिन इसकी वजह से ब्रिटिश स्वामित्व वाले 3,17,000 हजार .eu सजाल जरूर प्रभावित होने वाले हैं जो वहाँ पंजीकृत हैं।

हालाँकि ऐसा होने की संभावना कम ही दिखती है कि .eu डोमेन वाली सजालें बंद हो जायेंगी क्योंकि सोवियत संघ की .su डोमेन उसके विघटन से सिर्फ पंद्रह महीने पहले शुरु हुयी थी। सोवियत संघ के विघटन के बाद रूस ने .ru टीएलडी (टोप लेवल डोमेन) अपना लिया था पर अभी भी .su की एक लाख से अधिक सजालें जीवंत हैं।

यह विघटन केवल सोवियत संघ का विघटन था जिसमें एक देश कई हिस्सों में बँट गये थे लेकिन यूरोपीय संघ से ब्रिटेन का अलग होना एक व्यक्तिगत मसला बन गया है। यहाँ भावनात्मक तौर पर फैसले लेने की मंशा स्पष्ट हो रही है जिनकी परिणीति समय-समय पर दिखायी दे रही है।

छवि स्त्रोत: pexels

क्या आप जानते हैं कि आपके द्वारा पढ़ा गया यह पोस्ट हजारों को प्रेरित करने वाली है? यदि इसका जवाब सकारात्मक है तो आप अपने वही विचार यहाँ भी दे सकते हैं।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.