Ananya, APPS, INTERNET

डिग्ग रीडर भी गूगल रीडर की तरह विदा ले रही है

digg reader icon

डिग्ग रीडर एक समाचार एग्रीगेटर है जिसका संचालन अमेरिका की डिग्ग नामक कंपनी करती है। गूगल ने 2013 में अपनी लोकप्रिय आरएसएस सेवा गूगल रीडर को बंद कर दिया था जिसके जवाब में डिग्ग ने अपना आरएसएस रीडर लांच कर दिया था।

डिग्ग रीडर वेब-आधारित होने के साथ-साथ एंड्राएड तथा आईओएस पर भी एप के रूप में उपलब्ध है। इसका गूगल क्रोम एक्सटैंसन भी अंतर्जाल पर उपलब्ध है।

यह आश्चर्यजनक नहीं है कि डिग्ग अपनी इस सेवा को बंद कर रही है क्योंकि यह सरल और स्पष्ट होने के साथ फालतू चीजों (विज्ञापन या सिफारिश पढ़िये) को दूर रखती थी और इसमें कोई अनुशंसा या ताजातरीन आलेखों जैसी कोई दुविधा भी नहीं मिलती थी जबतक आप दुर्घटनावश डिग्ग नहीं करते थे।

डिग्ग अभी जीवंत रहेगी किंतु उसकी पाठक सेवा (डिग्ग रीडर) अवकाश प्राप्त कर रही है। हमें इसे ऐसे समझना चाहिये कि आरएसएस पाठक लाभदायक या आकर्षक नहीं हैं और यह सेवा सार्वजनिक सेवा से कमतर भी नहीं लगती है। एक समय आता है जब कंपनी को तय करना होता है कि वह कोई सेवा कब तक मुफ्त में दे सकती है और ऐसी कंपनियाँ इन्हें बंद करना पसंद करती है।

डिग्ग रीडर 26 मार्च को बंद हो रही है और आप में से जो लोग इसके उपयोक्ता हैं, वे डिग्ग की सैटिंग में जाकर अपनी फीड एवं फोल्डर डाउनलोड कर सकते हैं और उन्हें दूसरे आरएसएस रीडर से जोड़ सकते हैं।

digg reader retires on 26th march 2018

यहाँ एक कहावत साबित हो रही है कि घोड़ा घास से दोस्ती करेगा तो खायेगा क्या! वाला हाल हो गया था। हमारे देश में लोग अंतर्जाल और उसकी विभिन्न सेवाओं से अबतक अंजान हैं और कुछ लोगों के लिये अंतर्जाल का मतलब सिर्फ फेसबुक ही है लेकिन इस शानदार प्रौद्योगिकी का जाना यही साबित करता है कि कोई भी काम फोकट में अधिक दिन नहीं किया या दिया जा सकता है।

क्या आप जानते हैं कि आपके द्वारा पढ़ा गया यह पोस्ट हजारों को प्रेरित करने वाली है? यदि इसका जवाब सकारात्मक है तो आप अपने वही विचार यहाँ भी दे सकते हैं।