Ananya, ENTERPRISE

एपल रहस्यमयी ढंग से सेल्फ ड्राइविंग उद्योग में काम कर रही है

apple laptop showing apple logo

अमेरिका में हर दिग्गज कंपनी स्वचालित वाहनों में अपनी हिस्सेदारी बढ़ाने की जुगत में है और इस बीच एपल को पीछे छोड़ना नाकाफी प्रतीत होती है।

एपल ने कैलिफोर्निया में अपनी सेल्फ ड्राइविंग कारों की संख्या दोगुनी कर दी है। इसका खुलासा वर्ज से फाइनेंसियल टाइम्स के जरिये हुआ है। कंपनी के पास अब कुल 45 स्वचालित परीक्षण वाहन है जो राजकीय मोटर वाहन विभाग से पंजीकृत हैं। यह आँकड़ा जनवरी में 27 थी।

यह संख्या उबर और वायमो जैसी कंपनियों की संख्या से अधिक है और एपल अब सिर्फ जनरल मोटर्स से पीछे है जिसकी अपनी सेल्फ ड्राइविंग विभाग है। यह खबर उबर की स्वचालित वाहन की दुर्घटना के दो दिन बाद आयी है जब अरिजोना में वाहन के कारण एक पदयात्री (पैदल) की मृत्यु हो गयी थी।

एपल की सेल्फ ड्राइविंग कार्यक्रम के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है लेकिन इसका गुप्त नाम प्रोजेक्ट टाइटन है। कंपनी की फ्लीट में लैक्सस आरएक्स450एच कार है। गौरतलब है कि एपल पूर्ण सेल्फ ड्राइविंग कार का विकास करने के बजाय सोफ्टवेर पर काम करने वाली कार का विकास करने पर जोर दे रही है।

अनुसंधान कंपनी नैविगेंट के अनुसार, एपल हर श्रेणी में अन्य कंपनियों से पीछे चल रही है। इन श्रेणियों में रणनीति, प्रौद्योगिकी और निष्पदान शामिल हैं। हालाँकि यह भी जोड़ा गया है कि एपल के पास योग्यता है कि वह स्वचालित ड्राइविंग क्षेत्र में अपनी अनूठी स्थिति दर्ज कर सकेगी।

छवि स्त्रोत: pexels.com

क्या आप जानते हैं कि आपके द्वारा पढ़ा गया यह पोस्ट हजारों को प्रेरित करने वाली है? यदि इसका जवाब सकारात्मक है तो आप अपने वही विचार यहाँ भी दे सकते हैं।