Ananya, APPS, ENTERPRISE, INDIA, INTERNET, Mobile Technology, MOBILES, SOCIAL MEDIA, World

वाट्सेप की पेमेंट विशेषता आ रही है, जानिये खासियत

वाट्सेप अपनी पेमेंट विशेषता लांच करनेवाली है जिसकी परीक्षण आखिरी दौर में है।

whatsapp-upcoming-payment-feature

वाट्सेप की प्रतिकात्मक चित्र

फेसबुक स्वामित्व की कंपनी वाट्सेप जल्द ही एक नयी विशेषता लाने जा रही है। इसका नाम होगा वाट्सेप पेमेंट। कंपनी इसकी परीक्षण पहले से कर रही है। सनद रहे कि वाट्सेप ने हाल ही में छोटे व्यापारियों हेतु वाट्सेप बिजनस एप लांच किया था। इस एप से छोटी कंपनियाँ आसानी से अपने ग्राहकों के साथ जुड़कर अपना व्यापार बढ़ा सकेंगी।

ऐसे में अंदेशा बमुश्किल है कि वाट्सेप अपनी पेमेंट (भुगतान) व्यवस्था जल्द लायेगी जिससे उपयोक्ता अब वाट्सेप एप से भी भुगतान कर सकेंगे। इसकी भुगतान विशेषता के बारे में हम आपको बतायेंगे जो आपको जाननी चाहिये।

इसी महीने हो सकती है लांच

खबरों की माने तो वाट्सेप पेमेंट विशेषता भारत में इस महीने के आखिर तक लाइव हो सकती है। इसकी परीक्षण आखिरी दौर में है।

यूपीआई एकीकरण (इंटीग्रेशन)

वाट्सेप भारत की कई बैंकों के साथ मिलकर यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस (यूपीआई) आधारित भुगतान मंच लाने पर कार्यरत है। खबरों के मुताबिक आईसीआईसीआई बैंक, एक्सिस बैंक, एचडीएफसी बैंक और भारतीय स्टेट बैंक जैसी बैंकों के साथ भागीदारी सुनिश्चित हो चुकी है।

Whatsapp For Business App

 

वाट्सेप बिजनस एप भारत में लांच हुयी, जानिये क्या है खासियत

यह भी पढ़िये

 

तगड़ी एनक्रिप्शन होगी

वाट्सेप की यह भुगतान विशेषता उपयोक्ताओं को ध्यान में रखकर डिजाइन की गयी है। उपयोक्ताओं की सुरक्षा को देखते हुये कई परतों (लेयरों) में एन्क्रिप्शन दी जा रही है। इसमें इस बात का ख्याल रखा जा रहा है कि भुगतान करने में आपको किसी परेशानी का सामना न करना पड़े। खबरों के मुताबिक इस विशेषता की मदद से आप टेक्स्ट संदेश की तरह वाट्सेप पर भुगतान करते दिखेंगे।

सरकार से मिली हरी झंडी

विश्व की सबसे बड़ी संदेशी एप को पिछले साल भारत सरकार से यूपीआई एकीकरण की मंजूरी मिल गयी थी।

वाट्सेप अपनी कई विशेषताओं पर काम कर रही है जिनमें से एक उसकी भुगतान विशेषता है। वाट्सेप की इस भुगतान विशेषता की टक्कर बाजार की सबसे बड़ी खिलाड़ी पेटीएम के अलावा भीम एप और गूगल तेज जैसी भुगतान एप से होगी। ऐसे में संभावना व्यक्त की जा रही है कि इनके बीच बढ़ती प्रतिस्पर्धा उपयोक्ताओं को लाभार्थी बनायेगी, जैसा रिलायंस जियो और दूसरी दूरसंचार कंपनियों के मामले में हो चुका है।

क्या आप जानते हैं कि आपके द्वारा पढ़ा गया यह पोस्ट हजारों को प्रेरित करने वाली है? यदि इसका जवाब सकारात्मक है तो आप अपने वही विचार यहाँ भी दे सकते हैं।