Ananya, INTERNET, Reports, World

अध्ययन: सेलफोन विकिरण से नर चूहों में कैंसर, मादा चूहें इसके प्रभाव से बची

एक नये अध्ययन से पता चला है कि सेलफोन विकिरण से नर चूहों में कैंसर होने की संभावना ज्यादा है।cellphone can cause cancer

अमेरिका की राष्ट्रीय स्वास्थ्य संस्थान से संबद्ध राष्ट्रीय टोक्सिकोलोजी प्रोग्राम की ताजा अध्ययन से खुलासा हुआ है कि सेलफोन विकिरण कर्क (कैंसर) रोग की किसी प्रकार से जुड़ी हो सकती है लेकिन इसपर आमराय नहीं है। इसके परिणाम जटिल हैं और इसपर काफी काम बचा हुआ है पर शुरुआती खुलासे से एक बार फिर सार्वजनिक चर्चा को बल मिलते दिखती है।

अनुसंधान के अनुसार, मोबाइल फोन की रेडिओ आवृत्ति विकिरण के प्रभाव से चूहों या चूहियों में होनेवाली ट्यूमर की सटीक संख्या का अनुमान लगाना अनिश्चित है। अनुसंधानकर्ताओं का मानना है कि मौजूदा अध्ययनों की डिजाइन के आधार पर यह कहना वाकई मुश्किल हो गया है कि रेडिओ विकिरण कर्ककारी नहीं हैं।

दूसरे शब्दों में कहा जाये, तो यह प्रयोग चूहों और चूहियों पर ही किया गया है और इसकी रेडियो वातावरण को मनुष्यों के हिसाब से तय नहीं किया गया था। सो, इस अध्ययन के वृहत परिणामों को देखना अभी बाकी है।

इस अध्ययन में नर और मादा चूहों को 900 मेगाहर्ट्ज और 1900 मेगाहर्ट्ज तरंगदैर्ध्य की रेडिओ तरंगों के प्रभाव (दोनों पृथक प्रयोग) में 9 घंटे प्रतिदिन रखा गया जिसकी सामर्थ्य 1 से 10 वाट प्रति किलोग्राम थी।

इस अनुसंधान के तहत अधिकतर नर चूहों में कर्क के अंश मिले लेकिन मादा चूहों (चूहियों) को इसके प्रभाव में लाने के बावजूद अधिकतर इसके प्रभाव में आने से कामयाब रही।

इन चूहियों ने शायद समय के साथ विकिरण संबंधी भोजन लेना कम कर दिया था।

ये रिपोर्ट और आँकड़े सैकड़ों पन्ने के हैं, सो यह सिर्फ एक औचक लेख है। आप यहाँ सभी रिपोर्ट और अतिरिक्त सामग्रियों पर नजर दौड़ा सकते हैं (अंग्रेजी में) किंतु यह एक अहम अध्ययन है जिसकी चौतरफा चर्चा होनी चाहिये। इसके साथ मार्च में एनटीपी द्वारा आयोजित बाह्य विशेषज्ञ समीक्षा भी होनेवाली है।

यह एक अहम अनुसंधान का विषय है क्योंकि हम सभी की जिंदगी में मोबाइल फोन और इससे संबंधित कई उपकरणों ने ऐसी जगह बना ली है कि उनके परे जिंदगी ढूँढना कभी-कभी मुश्किल हो जाती है। हमें इसके कुप्रभाव को जानने की सख्त जरूरत है क्योंकि यह हमारी सुरक्षा से जुड़ी संवेदनशील मुद्दा भी है।

क्या आप जानते हैं कि आपके द्वारा पढ़ा गया यह पोस्ट हजारों को प्रेरित करने वाली है? यदि इसका जवाब सकारात्मक है तो आप अपने वही विचार यहाँ भी दे सकते हैं।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.