Ananya, APPS

गूगल ने विकासकों के लिये गूगल असिस्टैंट का एक्शन्स उतारा

गूगल ने गूगल असिस्टैंट के लिये एक्शन्स लांच कर दिया है जिसे आप अमेजन की भाषा में स्किल कह सकते हैं। यह पिछले कुछ समय से चर्चा का केंद्र बनी हुयी थी और गूगल ने इसे सोमवार को उद्घोषित कर ही दिया है।

बकौल गूगल, यह मंच अंतर्राष्ट्रीय विकासकों की समूहों को इसकी मदद से दुनियाभर में एप उपयोक्ता तक पहुँच बनाने देगी। इसके साथ एक खुशखबरी भी आयी है!

गूगल असिस्टैंट की भाषा तालिका में हिंदी भी जुड़ गयी है।

इसके साथ एक्शन्स को हिंदी सहित थाई, इंडोनेशियाई, डैनिश, नोर्वेजियाई, स्वीडिश और डच में भी उपलब्ध करा दिया गया है। इससे अब गूगल असिस्टैंट की समर्थित भाषाओं की संख्या बढ़कर 16 हो गयी है। इनमें से अंग्रेजी, फ्रांसीसी, जर्मन, जापानी, कोरियाई, स्पेनिश, पुर्तगाली, इटालियन और रूसी सहित सभी 16 भाषायें विकासकों हेतु पूर्ण समर्थित भाषायें हैं।

गूगल ने इसके लिये एक अलग औजार डायलोगफ्लो बनाया है जो वार्ताकारी इंटरफेस (अफलक) का निर्माण करती है और अब इस औजार में इन 16 भाषाओं की समर्थता जुड़ चुकी है।

इसके अतिरिक्त, गूगल विकासकों के लिये निर्देशिका तालिका (डायरेक्टरी लिस्टिंग) को बतौर संचिका निर्यातित करके एक्शन्स का अनुवाद करना आसान बना रही है। इससे एप का स्थानीकरण अधिक सहज हो जायेगी। गूगल ने मोबाइल वर्ल्ड काँग्रेस में विकासकों के लिये इनाम की भी घोषणा की है जब वे गूगल असिस्टैंट के लिये अपना प्रथम एक्शन लांच करेंगे।

विकासकों को उनकी प्रथम एक्शन प्रकाशित करने पर $200 (~₹13 हजार) तक की गूगल क्लाउड क्रेडिट और गूगल असिस्टैंट की टीशर्ट दिया जायेगा।

गूगल इस कार्यक्रम के जरिये अपनी गूगल असिस्टैंट एप को अधिक तीव्रता से बहुभाषी बनाकर लोगों के सामने पेश करने में सक्षम हो जायेगी जिसके साथ विकासक अपनी योगदान देकर एप को अधिक समृद्ध बनायेंगे और इस तरह गूगल असिस्टैंट एप उपयोक्ताओं के लिये अधिक रोमांचक हो जायेगी।

गूगल उत्पाद प्रबंधक ब्रैड अब्राम्स के अनुसार, “इस वर्षांत तक गूगल असिस्टैंट एप दुनियाभर की 95 प्रतिशत एंड्राएड फोनों तक अपनी पहुँच बना लेगी और एक्शन्स आपके लिए उन उपयोक्ताओं तक पहुँच बनाने का एक शानदार तरीका है जो आवाज पर आसानी से काम करने के लिए उनकी सहायता करती है।”

“कभी-कभार उपयोक्ता विशेषकर जटिल या अत्यधिक इंटरैक्टिव (पारस्परिक) कार्यों के लिये अपने एंड्राएड एप की बहुमुखिता का फायदा उठा सकते हैं।”

इसके साथ विकासक अब अपने उपयोक्ताओं से स्थान-आधारित पृच्छाओं (प्रश्नों) को बेहतर ढंग से समझ सकेंगे। एक्शन्स को गूगल प्लेसेज एपीआई के साथ जोड़ने से, विकासक किसी स्थान के बारे में वार्ता कर सकेंगे। इसका अर्थ है कि यदि कोई उपयोक्ता “बिग बाजार” कहने के लिये बोलते हैं और उस उपयोक्ता के आसपास कुछ होगी, तब असिस्टैंट आपसे अधिक प्रश्न पूछना चाहेगी कि आप कहाँ-कहाँ जाना पसंद करेंगे।

ऐसे उपयोक्ता जो किसी विकासक की एक्शन्स का नियमित रूप से उपयोग करते हैं, असिस्टैंट अब उनके लिये स्वचालित रूप से तेज हो जायेगी ताकि उपयोक्ता चीजों को जल्दी पूरा कर सकें।

इससे इतर, गूगल हेल्पर यानि मददगार नामक विकल्प भी शुरू कर रही है जो विकासकों को गूगल असिस्टैंट एप में एक्शन्स की गहरी उपस्थिति देने के लिए अनुमति देगी।

छवि स्त्रोत: xda-developers.com

क्या आप जानते हैं कि आपके द्वारा पढ़ा गया यह पोस्ट हजारों को प्रेरित करने वाली है? यदि इसका जवाब सकारात्मक है तो आप अपने वही विचार यहाँ भी दे सकते हैं।

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.