ENTERPRISE

एपल चीन में आईक्लाउड कूटलेखन कुंजियों का भंडारण करेगी, सुरक्षा चिंतायें बढ़ाती है

चीन अपनी अंतर्जाल उपयोक्ताओं की निजता उल्लंघन के मामलों में कुख्यात है और इसकी अगली कड़ी में एपल का नाम शुमार हो चुका है।

चीनी नियमों की मदद लेकर अब चीनी प्राधिकारी एपल की आईक्लाउड सेवा में दर्ज उपयोक्ता आँकड़ों तक आसान पहुँच बना सकेंगे। इसकी वजह से एपल चीनी उपयोक्ताओं की आईक्लाउड खातों की कूटलेखन (एन्क्रिप्शन) कुंजियों का भंडारण चीन में ही करेगी।

यह पहली दफा होगा जब एपल की आईक्लाउड सेवा संबंधी आँकड़े अमेरिका से बाहर किसी और देश में भंडारित किये जायेंगे।

हालाँकि एपल ने कहा है कि वह अकेले इन कूटलेखन कुंजियों पर नियंत्रण रखेगी और चीनी प्राधिकारियों इन गुप्त आँकड़ों तक पहुँच नहीं बना पायेंगे। अबतक, अमेरिका में ही सभी आईक्लाउड उपयोक्ताओं की कुंजियाँ भंडारित की जाती थी।

कल यानि 28 फरवरी से, चीन में एपल की आईक्लाउड सेवाओं का संचालन जीसीबीडी के पास चली जायेगी। एपल ने एक बयान में कहा कि “उसे नये चीनी कानून का अनुपालन करना पड़ेगा जिसमें चीनी नागरिकों को पेश की जाने वाली मेघ सेवाओं का संचालन चीनी कंपनियों के हाथों में होना चाहिये और उन आँकड़ों को चीन में ही भंडारित किये जाने का प्रावधान है।”

एपल ने इसपर जोर दिया कि उसकी मूल्य नहीं बदली है, भलेही वो हर देश की कानूनों के अधीन होगी।

एपल चीन में अपना व्यवसाय बढ़ाने के लिये हर हथकंडा अपना रही है जिसके कारण उपभोक्ता अधिकारों एवं व्यवसायिक अवसरों के बीच द्वंद्व का दृश्य देखने को मिल रहा है। पिछले साल, कंपनी ने चीन में नियमों का हवाला देकर एपस्टोर से भीपीएन एपों को हटा दिया था जिससे उसके चीनी व्यवसाय सही सलामत रहेगी।

छवि स्त्रोत: wccftech.com

क्या आप जानते हैं कि आपके द्वारा पढ़ा गया यह पोस्ट हजारों को प्रेरित करने वाली है? यदि इसका जवाब सकारात्मक है तो आप अपने वही विचार यहाँ भी दे सकते हैं।