Ananya

गूगल ने अपनी एआई कैमरों को प्रशिक्षित करने हेतु पेशेवर फोटोग्राफरों की मदद ली

गूगल ने अपनी एआई-कैमरों को कैसे सिखाया जिससे वे स्वतः बेहतरीन लम्हों को तस्वीरों में कैद करने में कामयाब हो सकी?

कंपनी ने अपनी नयी ब्लोगपोस्ट में बताया कि उनके इंजीनियरों ने पेशेवर- एक डोक्यूमेंट्री फिल्मकार, एक फोटो जर्नलिस्ट और एक फाइन आर्ट फोटोग्राफर को नियुक्त करके विजुअल डाटा (चक्षु आँकड़ा) इकट्ठा किया जिनसे कैमरों की न्यूरल नेटवर्क को प्रशिक्षित किया गया।

इस ब्लोगपोस्ट में इसके बारे में काफी विवरण दिया गया है जो मूलतः कृत्रिम बुद्धिमता (एआई) से संबंधित है। सोफ्टवेर कैसे अच्छी या बुरी तस्वीर लेगी, इसके कई उदाहरण शामिल की गयी है।

“विषयात्मकता और व्यक्तिकरण के संदर्भ में, सर्वोत्तमता संभव नहीं है और यह ध्येय भी नहीं है”, ब्लोगपोस्ट लेखकों ने लिखा। “पारंपरिक सोफ्टवेरों की तरह मशीन लर्निंग प्रणालियाँ कभी बग-मुक्त (दोषमुक्त) नहीं हो सकेंगे क्योंकि पूर्वानुमान एक काल्पनिक घटना होगी।”

पूरी खबर पढ़ने के लिये, आप गूगल की इस पोस्ट पर जा सकते हैं।

क्या आप जानते हैं कि आपके द्वारा पढ़ा गया यह पोस्ट हजारों को प्रेरित करने वाली है? यदि इसका जवाब सकारात्मक है तो आप अपने वही विचार यहाँ भी दे सकते हैं।