Ananya

गूगल आर्ट व कल्चर एप की सेल्फी मैचिंग विशेषता भारत आ चुकी है

सुर्खियाँ

  • एप को प्रसिद्ध कलाकार्य दिखाने हेतु जाना जाता था
  • आखिरी सप्ताह, इसने अचानक लोकप्रियता हासिल किया
  • तबभी, विमोचन के वक्त यह विशेषता कुछ देशों तक सीमित थी

कुछ लोगों का मत है कि दुनिया में एक जैसे दिखनेवाले सात लोग मौजूद हैं जो हकीकत में नहीं होती होगी पर गूगल आर्ट्स व कल्चर एप के अनुसार दुनिया की किसी कोने में कोई चित्र (सटीक: भित्तिचित्र) हो सकती है जो आपके जैसी दिखती है। एप की सेल्फी मैचिंग विशेषता जो आपकी सेल्फी को दुनियाभर की म्यूजियम में रखी चित्रों से मेल कराती है, पिछले सप्ताह लांच हुयी है और तुरंत सनसनी बन गयी। शुक्रवार को, गूगल ने उद्घोषणा किया कि सेल्फी मैचिंग विशेषता अब भारत में उपलब्ध है।

कंपूटर विजन प्रौद्योगिकी का उपयोग करके, गूगल आर्ट्स व कल्चर एप किसी उपयोक्ता की सेल्फी को दुनियाभर में मौजूद कला म्यूजियमों की कला, जो उसके डाटाबेस में है, से सुमेल करती है। जब अनुप्रयोग निकटतम सुमेल ढूँढती है, वह चेहरे और कलाकार्य के बीच चाक्षुक समरूपता (विजुअल सिमिलारिटी) की आकलित प्रतिशत दिखाती है। यह विशेषता गूगल आर्ट्स व कल्चर एप में एंड्राएड (गूगल प्लेस्टोर) और आईओएस (एपस्टोर) पर उपलब्ध है।

“गूगल आर्ट्स व कल्चर में, हमारे सोफ्टवेर इंजीनियर आपको कला और संस्कृति से जोड़ने के लिये हमेशा नये तथा रचनात्मक तरीकों का प्रयोग कर रहे हैं। इस तरह यह सेल्फी विशेषता दुनिया के सामने आ पायी है”, गूगल प्रवक्ता ने कहा।

इसके प्रथम रोलआउट से लोग अबतक 3 करोड़ सेल्फी लेकर इस विशेषता का उपयोग कर चुके हैं।

“अमेरिका में इसकी सफलता देखकर, हम भारत सहित दूसरे देशों में इस विशेषता को लांच करके उत्साहित हैं”, प्रवक्ता ने कहा।

इस नयी विशेषता के जरिये, अनुप्रयोग उपयोक्ताओं को 6,000 से अधिक प्रदर्शनों, 70 देशों की 1,500+ म्यूजियम भागीदारों से जोड़ती है। यह आभासी कलामंच लाखों सर्वकालीन शिल्पकृतियों तथा कलाकृतियों की मेजबानी करती है जो दुनियाभर की म्यूजियमों द्वारा साझाकृत है।

क्या आप जानते हैं कि आपके द्वारा पढ़ा गया यह पोस्ट हजारों को प्रेरित करने वाली है? यदि इसका जवाब सकारात्मक है तो आप अपने वही विचार यहाँ भी दे सकते हैं।