Ananya, ENTERPRISE, SOCIAL MEDIA

फेसबुक सर्वेक्षण के जरिये ‘भरोसेमंद’ समाचार चुनेगी

फेसबुक अपने फीड में भरोसेमंद समाचारों को तरजीह देने हेतु सदस्यीय सर्वेक्षणों का सहारा लेकर उच्च गुणवत्तामूलक निकायों की पहचान करेगी और कुसूचना व भड़काऊ (तथा सनसनीखेज) खबरों से दूरी बनायेगी, ऐसा मुख्य कार्यकारी मार्क जुकरबर्ग ने शुक्रवार को कहा।

फेसबुक, जिसके पास 20 करोड़ मासिक उपयोक्ता हैं, ने कहा कि उसके सदस्य (विशेषज्ञ या फेसबुक कार्यकारी नहीं) निर्धारित करेंगे कि समाचार निकाय भरोसेमंदी की वरीयता कैसे हासिल करेंगे। यह भी कहा गया कि वह स्थानीय समाचार स्त्रोतों पर ज्यादा जोर देगी।

यह लगभग हर देश की मध्यमा (मीडिया) के लिये झटकदार घटना है क्योंकि फेसबुक दुनिया की सबसे बड़ी सामध्यमा (सोशल मीडिया) कंपनी है और कुछ स्थानों में समाचार वितरण में यह केंद्रीय भूमिका निभाती है।

जुकरबर्ग शुक्रवार को बोले कि हालिया घोषणा से फेसबुक पर समाचारों की मात्रा में 20 प्रतिशत की कमी आ जायेगी।

मुख्य कार्यकारी यह भी बोले कि फेसबुक की न्यूजफीड (कंपनी की मुख्य उत्पाद) में कम भरोसेमंद स्त्रोतों के बजाय उच्च गुणवत्तामूलक समाचारों को तरजीह मिलेगी।

जुकरबर्ग ने लिखा कि आज दुनिया में काफी सनसनी, कुसूचना और ध्रुवीकरण है।

“There’s too much sensationalism, misinformation and polarization in the world today”, Zuckerberg wrote।

“सोशल मीडिया लोगों द्वारा सूचना फैलाने का सबसे तेज माध्यम बन चुकी है और हमें इन्हें समय रहते सुलझाना ही होगा”, उन्होंने लिखा।

“Social media enables people to spread information faster than ever before, and if we don’t specifically tackle these problems, then we end up amplifying them,” he wrote।

फेसबुक पर समाचारों की गुणवत्ता 2016 अमेरिकी चुनाव के समय से ज्यादा संदेह के घेरे में है जिसके साथ स्पैमर्स और गलत रिपोर्ट भी वजह हैं।

दो साल पहले, फेसबुक पर अफवाहजनक खबर आयी थी कि पोप फ्रांसिस ने अमेरिकी राष्ट्रपति पद हेतु डोनल्ड ट्रंप को पसंद किया था और डेमोक्रेट हिलेरी क्लिंटन मृत पायी गयी। फेसबुक ने इन गलत कहानियों से बचने के लिये उपयोक्ताओं द्वारा झंडी दिखाने का प्रस्ताव दिया।

“यह बदलाव न सिर्फ समाचार निकायों की समाचार कड़ियों पर प्रभावी होगी बल्कि उन समाचारों पर भी लागू होगी जो कोई व्यक्ति साझा करते हैं”, फेसबुक ने कहा।

अब यह देखनेवाली बात होगी कि दुनियाभर की मीडिया इसका कैसे स्वागत करती हैं जब यह अद्यतन (अपडेट) फेसबुक पर आ जायेगी।

क्या आप जानते हैं कि आपके द्वारा पढ़ा गया यह पोस्ट हजारों को प्रेरित करने वाली है? यदि इसका जवाब सकारात्मक है तो आप अपने वही विचार यहाँ भी दे सकते हैं।