AMERICA & AUSTRALIA, Ananya, BUSINESS, ENTERPRISE, INDIA, INTERNET, SOCIAL MEDIA, TECHNOLOGY

फेसबुक अपनी नवीनतम फीड अद्यतन में स्थानीय खबरों को बढ़ावा देगी

अंतिम अद्यतन: 1809-31012018

फेसबुक कूसूचना के बढ़ते जंजाल को पछाड़ने हेतु स्थानीय खबरों को बढ़ावा देगी।

facebook-login-office-laptop-business

फेसबुक की लोगिन पृष्ठ

फेसबुक मुखिया मार्क जुकरबर्ग ने सोमवार को कहा कि उनकी सोशल मीडिया (सामध्यमा) वेबसाइट अपनी नवीनतम अद्यतन में स्थानीय खबरों के प्रचार पर ध्यान देगी।

जुकरबर्ग की फेसबुक पोस्ट के अनुसार, अब आपकी फेसबुक फीड में आपके शहर से जुड़ी खबरों की अधिकता होगी। यदि आप किसी स्थानीय प्रकाशक का अनुसरण करते हैं या किसी ने कोई स्थानीय कहानी साझा की होगी, तो ऐसी पोस्ट आपके फीड में जल्दी दिखायी देगी।

मार्क के अनुसार, उन्हें इस वर्ष तक फेसबुक को इस दलदल से उबारना ही होगा। उन्होंने कहा कि स्थानीय खबर लोगों से जुड़ी होती है और उनकी जिंदगी को सर्वाधिक प्रभावित करती है। लोग जितना ज्यादा स्थानीय मामलों में सक्रिय रहेंगे, वे उतने ही तत्परता से उन मसलों को हल करने में मदद करेंगे।

“मैं पिछले साल देश में जहाँ भी गया, लोग मुझसे एक सवाल पूछ रहे थे कि हमलोग किस तरह विभाजित हो गये। हमलोगों को बिखरने की बजाय स्थानीय मुद्दों पर ध्यान केंद्रित करना चाहिये जिससे हमलोग अधिक प्रगति हासिल कर सकेंगे।”

यह अद्यतन सर्वप्रथम संयुक्त राज्य अमेरिका में लागू होगी और इस साल तक दुनिया की बाकी हिस्सों में पहुँच जायेगी। गौरतलब है कि फेसबुक के दुरुपयोग का सबसे ज्यादा मसला गत अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव के दौरान उछला था जिसकी वजह से फेसबुक को शर्मसार भी होना पड़ा।

इस अद्यतन के तहत उपयोक्ता यह भी चयन कर पायेंगे कि वे अपनी फेसबुक न्यूजफीड में राष्ट्रीय स्त्रोत या स्थानीय स्त्रोत की खबरें देखना चाहेंगे। फेसबुक की इस पहल से स्थानीय प्रकाशकों को वरीयता मिलेगी जो खेल, मनोरंजन और मानवता संबंधित खबरें प्रसारित करते हैं।

कंपनी अपनी सजाल (वेबसाइट) में काफी बदलाव कर रही है। इसे आलोचना झेलनी पड़ रही है कि इसकी अल्गोरिदम (कलनिधि) की वजह से लोगों की फीड में गलत खबरों और कुसूचना का अंबार बढ़ रहा है। इस कुसूचना की वजह से कुछ देशों की सरकारी व्यवस्था को भी अच्छा खासा नुकसान पहुँचा है।

कंपनी ने हालिया अपनी मुख्य उत्पाद न्यूजफीड में एक बदलाव किया था जो आपकी फेसबुक फीड पर आपके मित्रों तथा परिजनों की पोस्टों को तरजीह देती है। इससे प्रकाशकों और ब्रांडों की विज्ञापन सामग्रियों की संख्या में घटोतरी हुयी।

कंपनी से इस कदम से निवेशक काफी निराश हुये हैं और उन्हें आशंका है कि लोग अब कम समय फेसबुक पर गुजारेंगे।

क्या आप जानते हैं कि आपके द्वारा पढ़ा गया यह पोस्ट हजारों को प्रेरित करने वाली है? यदि इसका जवाब सकारात्मक है तो आप अपने वही विचार यहाँ भी दे सकते हैं।